हिब्तुल्लाह अखुंदजादा

हिब्तुल्लाह अखुंदजादा को 2021 में तालिबान की कार्यवाहक सरकार का सुप्रीम लीडर बनाया गया था। हिब्तुल्लाह अखुंदजादा का संबंध तालिबान के गढ़ माने जाने वाले कंधार से है और उसका संबंध नूरजई कबीले से है। वह सोवियत संघ के हमले के बाद 1980 के दशक के अफगानी विद्रोह में एक कमांडर की भूमिका अदा कर चुका है, हालांकि उसकी पहचान एक इस्लामी विद्वान के तौर पर ज्यादा है। अखुंदजादा तालिबान का प्रमुख बनने से पहले तालिबान के पूर्व प्रमुख अख्तर मोहम्मद मंसूर का डिप्टी था। मंसूर को मई, 2016 में अमेरिका ने एक ड्रोन हमले में मार गिराया जिसके बाद अखुंदजादा तालिबान का प्रमुख बना।