हमारे उसूल

इस दस्तावेज में वो दिशानिर्देश दिए हुए हैं, जिनका पालन न्यूजबाइट्स में काम कर रहे सभी लोग करते हैं। न्यूजबाइट्स में हमारा लक्ष्य है:-

सटीकता

हमें हर खबर को प्रामाणिक रखना चाहिए, चाहे फिर वो शब्दों की बात हो या तस्वीरों की। हर खबर को बिना किसी पूर्वाग्रह, निर्णय, धारणाएं या प्रचार के लिखा जाना चाहिए। हमें खबर के सभी पक्ष बताने चाहिए और किसी का भी पक्ष नहीं लेना चाहिए। तेजी से काम करना गलतियां करने का बहाना नहीं हो सकता।

सोशल मीडिया समेत किसी भी गैर-आधिकारिक स्त्रोत से ली गई सूचना को शक की निगाह से देखा जाना चाहिए। हमें स्वतंत्र रूप से सत्यापन और सूचनाओं को इकट्ठा करने की कोशिश करनी चाहिए।

निष्पक्षता

सभी खबरों को बिना किसी भेदभाव के रिपोर्ट करना चाहिए। हमें किसी ऐसे व्यक्ति को मंच नहीं देना चाहिए, जो खबरों को प्रभावित करना चाहता है। संपादकीय में यह सुनिश्चित करना है कि दृष्टिकोण संवेदनशील, व्यवहारिक और सकारात्मक बहस को शुरू करने में मदद करने वाला हो। हमें हमारे पाठकों को पेचीदा मुद्दों के बारे में जानकारी देनी चाहिए। जब तक समाज या शांति व्यवस्था के लिए हानिकारक न हो, हमें लोगों और विचारों में विविधता को महत्व देना चाहिए।

पारदर्शिता

हम पाठकों के भरोसे का सम्मान करते हैं और इसलिए जहां तक संभव हो सके, स्त्रोत को बताने की कोशिश करते हैं। हमारे प्लेटफॉर्म के जरिये किसी भी व्यक्ति या संस्था को प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए और यह संपादक के विवेक पर छोड़ दिया जाना चाहिए। किसी भी गलती को तुरंत सुधारना होगा। पारदर्शिता बनाए रखने के लिए तथ्यात्मक गलती को ठीक करने के बाद खबर के फुटनोट में इसकी जानकारी दी जानी चाहिए।

ज्ञान

हमें पूरे सच को बताने की कोशिश करनी चाहिए। हमें यह सुनिश्चित करना है कि हमारा प्लेटफॉर्म दैनिक घटनाओं की पूरी और विस्तृत जानकारी देता हो। ऐसा पाठकों को समझ आने वाले तरीके से किया जाना चाहिए। हमें हमारी खबर में कोई कमी नहीं छोड़नी चाहिए।

निजता

हमें यौन शोषण के पीड़ित, अपराध के साक्षी और आरोपी नाबालिग, जोखिम का सामना करने वाले और संवेदनशील लोगों की पहचान सुरक्षित रखने की कोशिश करनी चाहिए। इनकी पहचान तब तक गुप्त रखनी चाहिए, जब तक आधिकारिक तौर पर इनकी पहचान का खुलासा न कर दिया जाए या पीड़ित खुद सामने आकर अपनी पहचान जाहिर न कर दे।

शिष्टता

समाचार के सभी विषयों के साथ सम्मान और करुणा से व्यवहार किया जाना चाहिए। यह शिष्टता हमारे विविधतापूर्ण समाज के सभी लोगों पर लागू होती है। हमें नफरत और प्रोपेगैंडा फैलाने वाला प्लेटफॉर्म नहीं बनना है। अनिवार्य न होने तक अश्लीलता और गाली-गलौज आदि का इस्तेमाल नहीं करना है। ऐसे अपवादस्वरूप मामलों को संपादक के विवेक पर छोड़ा जाना चाहिए। हत्या, शवों, आत्महत्या और यौन हमले के ग्राफिक चित्रण और विवरण से भी बचा जाना चाहिए।

सत्यनिष्ठा

हमें सूचनाओं की चोरी और उनमें जोड़-तोड़ नहीं करनी चाहिए। पाठकों को गुमराह करने के लिए दृश्यों और तस्वीरों को गलत तरीके से पेश नहीं किया जाना चाहिए, भले ही इसके पीछे इरादा कुछ भी हो।