अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

अजब-गजब
07 Feb 2019

कर्नाटक में चोरी हुआ 1.25 लाख रुपए का गोबर, सरकारी कर्मचारी गिरफ़्तार

कर्नाटक: गोबर चोरी के आरोप में सरकारी कर्मचारी गिरफ़्तार

जैसे-जैसे दुनिया आधुनिकता की तरफ़ बढ़ रही है, आपराधिक घटनाओं में भी वृद्धि हो रही है।

आपने पुलिस को करोड़ों रुपए, गहने या किमती सामान की चोरी की जाँच करते देखा होगा, लेकिन हाल ही में कर्नाटक में एक बहुत ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है।

यहाँ पुलिस गाय का गोबर चोरी होने की घटना की जाँच कर रही है।

बता दें कि पशुपालन विभाग ने 1.25 लाख रुपए के गोबर चोरी होने की शिकायत दर्ज करवाई है।

प्रसंग

कर्नाटक: गोबर चोरी के आरोप में सरकारी कर्मचारी गिरफ़्तार

घटना

सुपरवाइजर के ख़िलाफ़ मामला दर्ज

प्राप्त जानकारी के अनुसार यह पूरी घटना कर्नाटक के चिकमंगलुरु के बिरूर की है।

पुलिस के मुताबिक़ लगभग 30-40 ट्रॉली गाय का गोबर विभाग से गायब बताया जा रहा है।

जैसे ही विभाग को इस घटना की जानकारी मिली, सुपरवाइजर के ख़िलाफ़ मामला दर्ज करवा दिया गया।

गायब हुए गाय के गोबर की कीमत लगभग 1.25 लाख रुपए बताई जा रही है। शिकायत के अनुसार भारी मात्रा में गाय का गोबर अमृतमहल कवल से निजी भूमि पर ले जाया गया।

आरोपी

ज़मीन के मालिक का नाम भी FIR में शामिल

एक अंग्रेज़ी अख़बार से बातचीत के दौरान बिरूर के CPI सत्यनारायण स्वामी ने बताया कि, "पशुपालन विभाग के जॉइंट डायरेक्टर की ओर से गाय के गोबर चोरी होने के मामले में FIR दर्ज करवाई गई है।"

उन्होंने आगे बताया कि पशुपालन विभाग के सुपरवाइजर को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

पुलिस ने बताया कि FIR में उस व्यक्ति का भी नाम शामिल किया गया है, जिसकी निजी ज़मीन पर गाय का गोबर पाया गया।

अजब-गजब की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

पशुपालन विभाग को सौंप दिया गया गोबर

खेती-बाड़ी

पशुपालन विभाग को सौंप दिया गया गोबर

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गोबर, पशुपालन विभाग को सौंप दिया गया है।

गौरतलब है कि गाय का गोबर और गोमूत्र खेती-बाड़ी में ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है। इससे देशी खाद बनाया जाता है।

कर्नाटक में गोमूत्र और गाय के गोबर की बहुत ज़्यादा माँग है। इसके साथ ही आयुर्वेद में भी गाय के गोबर की काफ़ी माँग होती है।

जानकारों का कहना है कि गाय के गोबर और गोमूत्र का इस्तेमाल करने से पैदावार अच्छी होती है।

अगली खबर