अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

खेलकूद
15 May 2019

IPL 2019 Final: आखिरी गेंद की कहानी, बल्लेबाज़ी कर रहे शार्दुल ठाकुर की ज़ुबानी

फाइनल मुकाबले की आखिरी गेंद पर बोले शार्दुल ठाकुर

IPL 2019 के फाइनल मुकाबले को एक रन जीत कर मुंबई ने चौथी बार इस लीग के खिताब को अपने नाम किया।

चेन्नई को इस मैच में आखिरी गेंद पर दो रनों की ज़रूरत थी और क्रीज़ पर शार्दुल ठाकुर मौजूद थे। शार्दुल के पास हीरो बनने का पूरा मौका था, लेकिन मलिंगा की गेंद पर वह आखिरी गेंद पर आउट हो गए और मुंबई ने एक रन से मैच जीत लिया।

जानिए आखिरी गेंद की कहानी शार्दुल की ज़ुबानी।

प्रसंग

फाइनल मुकाबले की आखिरी गेंद पर बोले शार्दुल ठाकुर

साक्षात्कार

आखिरी गेंद पर कदम निकाल कर मारना चाहिए था- शार्दुल

मीडिया को दिए साक्षात्कार में शार्दुल ने कहा, "मुझे आखिरी गेंद पर फ्लिक के बजाय कदम निकाल कर शॉट खेलना चाहिए था।"

उन्होंने आगे कहा, "जडेजा मेरे साथ उस समय बल्लेबाज़ी कर रहे थे। वो मेरे पास आए और कहा हवा में शॉट मत खेलना। प्लान ये था कि ग्राउंडेड शॉट खेला जाए, लेकिन मैं छक्के मार सकता हूं। मुझे कदम निकालकर बड़ा शॉट खेलना चाहिए था। मुझे सबकुछ याद आ रहा है। उस समय मैं हीरो बन सकता था।"

बातचीत

मेरे दिमाग में सिर्फ जीत ही चल रही थी- शार्दुल ठाकुर

हरभजन और दीपक चहर से पहले बल्लेबाज़ी के लिए भेजे जाने के सवाल पर शार्दुल ने कहा, "मैंने किसी से नहीं पूछा कि मुझे पहले बल्लेबाज़ी के लिए क्यों भेजा जा रहा है। जैसे ही वॉटसन आउट हुए, मुझे भेजा गया। मेरे दिमाग में सिर्फ जीत ही चल रही थी।"

आगे उन्होंने कहा, "मलिंगा राउंड दी विकेट गेंदबाज़ी कर रहे थे और स्कॉयर लेग भी ऊपर था। अगर मलिंगा यार्कर मिस करते तो मैं स्कॉयर लेग से ऊपर मार देता।"

खेलकूद की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

बातचीत

पवेलियन लौटने पर मुझसे किसी ने कुछ नहीं कहा- शार्दुल

शार्दुल ने कहा, "जब गेंद मेरे पैड से लगी तो मैं बिना अंपायर को देखे ही एक रन लेने के लिए भागने लगा। आखिरी गेंद पर मैं हीरो बन सकता था, लेकिन अफसोस ऐसा नहीं हो पाया।"

उन्होंने आगे कहा, "क्रिकेट यहां खत्म नहीं हुआ है। उम्मीद करता हूं कि अगली बार मुझे ऐसा मौका मिलेगा और मैं अपनी टीम को जीत दिलाउंगा। जब मैं आउट होकर पवेलियन लौटा तो वहां माहौल शांत था। किसी ने मुझसे कुछ नहीं कहा।"

IPL 2019 फाइनल

आखिरी ओवर में इस तरह मुंबई को मिली थी जीत

आखिरी ओवर में चेन्नई को जीत के लिए 9 रनों की ज़रूरत थी। मुंबई ने लसिथ मलिंगा को गेंदबाज़ी देने का फैसला किया।

मलिंगा ने पहली तीन गेंदों पर चार रन दिए और फिर चौथी गेंद पर वॉटसन 2 रन लेने के चक्कर में आउट हो गए।

इसके बाद शार्दुल ने पांचवी गेंद पर 2 रन लिए। जब आखिरी गेंद पर 2 रन चाहिए थे, तो शार्दुल आउट हो गए और मुंबई ने एक रन से मैच जीत लिया।

अगली खबर