सोशल नेटवर्किंग के लिए गूगल ला रही नई ऐप

टेक्नोलॉजी

14 Jul 2019

सोशल नेटवर्किंग के लिए नई ऐप ला रही गूगल, नाम होगा शूलेस

गूगल एक नई सोशल नेटवर्किंग ऐप पर काम कर रही है। शूलेस (Shoelace) नामक इस ऐप की फिलहाल कंपनी के प्रोडक्ट वर्कशॉप एरिया 120 में टेस्टिंग चल रही है।

यह हाइपरलोकर नेटवर्किंग ऐप होगी, जो असल जिंदगी में एक जैसी पसंद और शौक रखने वाले लोगों को कनेक्ट करेगी।

यह एक तरह से फेसबुक के 'इवेंट' और टिंडर के 'मैच-मेकिंग' फंक्शन की तरह काम करेगी।

आइये, गूगल की इस ऐप के बारे में विस्तार से जानते हैं।

गूगल शूलेस

ऐसे काम करेगी गूगल शूलेस

शूलेस यूजर्स को लोकल इवेंट प्लान और ऑर्गेनाइज करने में मदद करेगी। इस पर यूजर्स को अपनी पसंद और शौक लिस्ट करना होगा।

इसके बाद इससे जुड़े इवेंट उसे दिखने लगेंगे। इसे एक उदाहरण के जरिए समझिये।

मान लिजिए आपको साइक्लिंग का शौक है। आप इस ऐप पर साइक्लिंग से जुड़ा इवेंट डाल दीजिए, जहां साइक्लिंग का शौक रखने वाले दूसरे लोग आकर आपसे जुड़ सकते हैं, जिनके साथ आप साइक्लिंग का आनंद उठा सकते हैं।

नाम

ऐप का नाम शूलेस क्यों रखा गया?

ऐप का नाम आपको थोड़ा अजीब लग सकता है। दरअसल, कंपनी ने इसके पीछे की वजह भी बताई है।

कंपनी की वेबसाइट पर बताया गया है कि इसका पूरा मकसद एक जैसी पसंद वाले लोगों को साथ लाना है। जैसे जूते के दो लेस एक साथ बंधते है। ऐसा अलग-अलग एक्टिविटी के जरिए किया जाएगा, जिन्हें लूप्स के नाम से जाना जाएगा।

उम्मीद है कि अब आपको इस ऐप के नाम के पीछे की साइंस पता चल गई होगी।

टेक्नोलॉजी की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

टेस्टिंग

एंड्रॉयड और iOS वर्जन की टेस्टिंग जारी

इस ऐप में मैप इंटरफेस होगा, जहां दूसरे लोगों द्वारा ऑर्गेनाइज किए जा रहे लूप्स को देखा जा सकता है।

इसके अलावा आप अपने उन दोस्तों के साथ भी अपनी पसंद शेयर कर सकते हैं, जो यह ऐप यूज नहीं कर रहे।

ऐप में साइन-इन करने के लिए सिर्फ गूगल अकाउंट की जरूरत पड़ेगी। इसके एंड्रॉयड और iOS वर्जन की टेस्टिंग जारी है।

इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि कंपनी इसे लोगों के लिए कब तक उपलब्ध कराएगी।

गूगल ऐप्स

कामयाब नहीं हुई है गूगल की सोशल नेटवर्किंग ऐप्स

गूगल ने ऐसी ही एक ऐप 'स्कीमर' 2011 में लॉन्च की थी। हालांकि, यह ऐप ज्यादा लोकप्रिय नहीं हो पाई और कंपनी को सिर्फ तीन साल बाद ही 2014 में इसे बंद करना पड़ा।

गूगल ने कुछ महीनों पहले अपनी इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप Allo को भी बंद किया था।

इस ऐप को सितंबर 2016 में लॉन्च किया गया था। कंपनी अब अपने एंड्रॉयड मैसेजिंग ऐप पर ही फोकस कर रही है उसमें ही नए फीचर्स जोड़े जा रहे हैं।

खबर शेयर करें

फेसबुक

गूगल

सोशल मीडिया

टिंडर

खबर शेयर करें

अगली खबर