स्मार्ट कंज्यूमर ऐप बताएगा प्रोडक्ट असली है या नक़ली

टेक्नोलॉजी

11 Jul 2019

स्मार्ट कंज्यूमर ऐप से आसानी से करें प्रोडक्ट के असली/नक़ली होने की पहचान

अक्सर आपको कई बार कुछ चीज़ें बाज़ार से ख़रीदनी पड़ती हैं। बाज़ार में खाने-पीने से लेकर रोज़मर्रा इस्तेमाल की जाने वाली कई चीज़ें मिलती हैं।

उनमें से कुछ चीज़ें काफ़ी अच्छी होती हैं, तो कुछ नक़ली और मिलावटी होती हैं।

हमारे सामने सबसे बड़ा डर होता है कि हम उस प्रोडक्ट की क्वालिटी और उसके असली/नक़ली होने का कैसे पता लगाएँ।

अगर आप भी यह सोचकर परेशान हो रहे हैं, तो अब इसमें आपकी मदद 'Smart Consumer' ऐप करेगा।

जानकारी

ऐप से मिलेगी प्रोडक्ट लेबलिंग की जानकारी

जी हाँ उपभोक्ताओं को होने वाली इन्ही परेशानियों को ध्यान में रखकर डिपार्टमेंट ऑफ कंज्यूमर अफ़ेयर्स, भारत सरकार और भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) एवं एक NGO ने मिलकर Smart Consumer GS1 मोबाइल ऐप तैयार किया है।

इस ऐप के माध्यम से भारत में उपभोक्ताओं को कानूनी मेट्रोलॉजी (पैकेज्ड कमोडिटीज़) रूल्स 2011 और FSSAI लाइसेंस इनफ़ॉर्मेशन के तहत आवश्यक प्रोडक्ट लेबलिंग की जानकारी मिल सकेगी, जिससे उनका भला होगा।

प्रक्रिया

इस तरह काम करता है ऐप

सबसे पहले आपको जिस प्रोडक्ट की जानकारी चाहिए उसके बारकोड को स्कैन करना होगा।

उसके बाद आपको प्रोडक्ट/कमोडिटी का नाम, निर्माता/पैक करने वाले का नाम/आयात करने वाले का नाम और पता, निर्माण और पैक/आयात का महीना और वर्ष दिखेगा।

इसके अलावा प्रोडक्ट की MPR, पूर्ण सामग्री, FSSAI नंबर और उसकी वैद्यता, शिकायत/प्रतिक्रिया दर्ज करने के लिए उपभोक्ता देखभाल विवरण (फोन और ईमेल) आदि जानकारी दिखाई देगी।

इस ऐप के माध्यम से उपभोक्ता प्रोडक्ट का फ़ीडबैक भी भेज सकते हैं।

टेक्नोलॉजी की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

ख़ासियत

स्कैनिंग में फेल होने पर एंटर करें GTIN नंबर

इसके अलावा अगर उपभोक्ता को प्रोडक्ट से संबंधित कोई शिकायत या चिंता हो तो उसे सीधे नियामकों के पास भेज सकता है।

अगर प्रोडक्ट पर दिया गया बारकोड स्कैनिंग में फेल हो जाता है, तो बारकोड के साथ में दिए गए प्रोडक्ट के GTIN नंबर को एंटर करें। उस नंबर को एंटर करते ही आपको प्रोडक्ट से संबंधित सारी जानकारी मिल जाएगी।

Smart Consumer ऐप को एंड्रॉइड और IOS से डाउनलोड किया जा सकता है।

खबर शेयर करें

भारत

मोबाइल ऐप्स

FSSAI

खबर शेयर करें

अगली खबर