चंद्रबाबू नायडू को किया गया घर में नजरबंद

राजनीति

11 Sep 2019

जगमोहन रेड्डी सरकार के खिलाफ रैली निकालने जा रहे चंद्रबाबू नायडू नजरबंद, भूख हड़ताल पर बैठे

आंध्र प्रदेश की जगनमोहन रेड्डी सरकार के खिलाफ बड़ी रैली करने जा रहे तेलुगू देशम पार्टी (TDP) प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे नारा लोकेश को घर में नजरबंद कर दिया गया है।

गुंटूर जिले में होने जा रही इस रैली के लिए पुलिस की इजाजत न मिलने पर नायडू अपने घर में ही भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं।

मामले ने राज्य में सत्तारूढ़ YSR कांग्रेस और TDP के टकराव को और बढ़ा दिया है।

चलो आत्मकूर रैली

YSR कांग्रेस की राजनीतिक हिंसा के खिलाफ बुलाई गई थी रैली

दरअसल, गुंटूर के आत्मकूर इलाके में TDP समर्थकों पर YSR कांग्रेस के नेताओं के कथित हमले के खिलाफ नायडू ने बुधवार को 'चलो आत्मकूर' नाम से रैली बुलाई थी।

उनकी पार्टी ने आरोप लगाया था कि YSR कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद पिछले तीन महीने में राजनीतिक हिंसा में उसके आठ कार्यकर्ता मारे गए हैं।

नायडू के जवाब में YSR कांग्रेस ने भी पिछली TDP सरकार के दौरान हुई राजनीतिक हिंसा के खिलाफ आत्मकूर में रैली बुलाई थी।

घटनाक्रम

पाबंदी के बावजूद भी रैली के लिए जा रहे थे नायडू, पुलिस ने बंद किया गेट

इस बीच नायडू की रैली को आंध्र प्रदेश पुलिस ने इजाजत नहीं दी और नायडू समेत TDP के कई नेताओं को नजरबंद कर दिया।

इसके बावजूद भी जब नायडू रैली के लिए आत्मकूर निकलने लगे तो पुलिस ने उनके घर के गेट बंद कर दिए, जिसके बाद नायडू अमरावती के उंडावल्ली स्थित अपने घर में एकदिवसीय भूख हड़ताल पर बैठ गए।

उन्होंने राज्य के अपने सभी नेताओं से भी भूख हड़ताल करने की अपील की है।

राजनीति की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

नायडू के घर के गेट को बंद किया गया

बयान

नायडू ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन

अपने घर पर रिपोर्ट्स से बात करते हुए नायडू ने इसे लोकतंत्र के लिए काला दिन बताया।

उन्होंने कहा, "ये सरकार मानवाधिकारों और मौलिक अधिकारों का उल्लंघन कर रही है। मैं सरकार को चेतावनी दे रहा हूं। मैं पुलिस को भी चेतावनी दे रहा हूं। आप इस तरीके की राजनीति नहीं कर सकते। आप गिरफ्तार करके हमें काबू में नहीं रख सकते। जब भी वो मुझे इजाजत देंगे, मैं 'चलो आत्मकूर' को जारी रखूंगा।"

YSR कांग्रेस को भी नहीं मिली रैली की इजाजत

आंध्र प्रदेश के DGP गौतम सावंग का कहना है कि आत्मकूर में पहले ही धारा 144 लगा दी गई है और इसलिए किसी भी रैली की इजाजत देने का सवाल ही पैदा नहीं होता। YSR कांग्रेस को भी रैली की इजाजत नहीं दी गई है।

विधानसभा चुनाव

रेड्डी ने दी थी नायडू को करारी मात

बता दें कि जगमोहन रेड्डी और चंद्रबाबू नायडू एक-दूसरे के कट्टर विरोधी हैं।

रेड्डी से पहले नायडू आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, लेकिन लोकसभा चुनाव के साथ हुए राज्य विधानसभा चुनाव में रेड्डी ने उन्हें करारी मात दी।

राज्य की 175 सीटों में से 151 पर YSR कांग्रेस ने कब्जा किया, जबकि TDP के खाते में मात्र 23 सीटें आईं।

लोकसभा सीटों पर भी YSR कांग्रेस का प्रदर्शन शानदार रहा और उसने 25 में से 22 पर जीत दर्ज की।

खबर शेयर करें

आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश सरकार

जगन रेड्डी

चंद्रबाबू नायडू

तेलुगू देशम पार्टी (TDP)

लोकसभा चुनाव

विधानसभा

खबर शेयर करें

अगली खबर