आजम खान ने विवादित बयान के लिए मांगी माफी

राजनीति

29 Jul 2019

भाजपा सांसद रमा देवी पर विवादित टिप्पणी के लिए आजम खान ने मांगी माफी

भारतीय जनता पार्टी सांसद रमा देवी पर विवादित टिप्पणी के लिए समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान ने सोमवार को लोकसभा में माफी मांग ली।

हालांकि रमा देवी के उनकी माफी से सहमत नहीं होने के बाद लोकसभा में हंगामा देखने को मिला।

सदन में माफी मांगने से पहले आजम सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ लोकसभा स्पीकर ओम बिरला से मिले और उस समय रमा देवी भी वहां मौजूद रहीं।

विवादित बयान

क्या कहा था आजम खान ने?

आजम खान ने गुरुवार को तीन तलाक बिल पर बहस के दौरान उस समय लोकसभा की अध्यक्षता कर रहीं रमा देवी पर विवादित टिप्पणी की थी।

उन्होंने कहा था, "मैं तो आपको इतना देखूं कि आप कहें कि नजर हटा लो...आप मुझे इतनी अच्छी लगती है, इतनी प्यारी लगती हैं कि मैं आपकी आंखों में आंखें डाले रहूं ये मेरा मन करता है।"

स्मृति ईरानी और निर्मला सीतारमण समेत तमाम बड़े नेताओं ने आजम पर कार्रवाई की मांग की थी।

माफी

माफी में आजम ने क्या कहा?

उत्तर प्रदेश के रामपुर से सांसद आजम खान ने अपने विवादित बयान के लिए लोकसभा में माफी मांगते हुए कहा, "मेरी ऐसी कोई भावना चेयर के प्रति न थी और न हो सकती है। मेरे भाषण और आचरण को सारा सदन जानता है। इसके बावजूद भी अगर चेयर को ऐसा लगता है कि मेरे से कोई गलती हुई है तो मैं उसकी क्षमा चाहता हूं।"

इस बीच अखिलेश यादव ने आजम की माफी का समर्थन किया।

राजनीति की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

प्रतिक्रिया

माफी से सहमत नजर नहीं आईं रमा देवी

वहीं, आजम की माफी का जवाब देते हुए रमा देवी ने कहा, "पूरे हिंदुस्तान के महिला और पुरुष सबको तकलीफ पहुंची है... इसका महत्व इन्हें नहीं समझ आएगा क्योंकि ये बाहर भी इसी तरीके से बोलते रहे हैं।

इनकी आदत जरूरत से ज्यादा बिगड़ी हुई है, ये सुधरनी चाहिए। ऐसा नहीं है कि आजम खान जो मन में आए वो चेयर से बोल दें, इस तरीके की बातें सुनने में यहां नहीं आई हूं।"

आजम की माफी से रमा देवी असहमत

स्पीकर फैसला

स्पीकर ने स्वीकार की माफी, सदन की मर्यादा बनाए रखने की नसीहत

इसके बाद स्पीकर ओम बिरला ने आजम खान की माफी स्वीकार करते हुए कहा, "आजम खान ने माफी मांग ली है और सभी सदस्यों को शिष्टाचार बनाए रखने की जरूरत है ताकि भविष्य में ऐसा कोई वाकया न हो। यह सदन सभी का है और सभी के समर्थन से चलता है। सदस्यों को ऐसी भाषा का उपयोग करने से बचना चाहिए जो सदन की गरिमा के खिलाफ हो।"

इसी के साथ ये मामला सदन के अंदर समाप्त हो गया।

खबर शेयर करें

भारतीय जनता पार्टी

समाजवादी पार्टी

लोकसभा

अखिलेश यादव

आजम खान

संसद

स्मृति ईरानी

निर्मला सीतारमण

खबर शेयर करें

अगली खबर