अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

राजनीति
15 Apr 2019

कुमारस्वामी का प्रधानमंत्री पर निशाना, कहा- मैंने मोदी की तरह बेगुनाहों को नहीं मारा

कुमारस्वामी ने कहा- मैंने मोदी की तरह बेगुनाह नहीं मारे

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि एक मुख्यमंत्री के तौर पर उन्होंने मोदी की तरह बेगुनाह लोगों को नहीं मारा है।

बता दें कि मोदी देश के प्रधानमंत्री बनने से पहले 2001 से लेकर 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री थे और इस दौरान उनके शासन में 2002 में दंगे हुए थे।

दंगे रोकने में उनकी विफलता के लिए अक्सर उन पर सवाल उठते रहे हैं।

प्रसंग

कुमारस्वामी ने कहा- मैंने मोदी की तरह बेगुनाह नहीं मारे

बयान

मुझे मोदी से सीखने की जरूरत नहीं- कुमारस्वामी

डॉ भीमराव अंबेडकर की 128वीं जयंती के मौके पर उन्हें श्रद्धांजली देने के बाद कुमारस्वामी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, "मुझे प्रधानमंत्री मोदी से सीखने की जरूरत नहीं है। एक मुख्यमंत्री के तौर पर मैंने हजारों बेगुनाहों की जान नहीं ली है, जैसा कि उन्होंने किया।"

बता दें कि कुमारस्वामी पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के बेटे हैं और कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर की गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं।

आयकर छापे

आयकर विभाग के छापों से नहीं डरते कुमारस्वामी

इस बीच कुमारस्वामी ने राज्य में पड़े आयकर विभाग के छापों पर कहा कि वह ऐसे छापों से नहीं डरते हैं।

उन्होंने कहा, "स्थिति ये है कि जब JDS प्रमुख देव गौड़ा डिनर के लिए किसी के घर गए तो उस घर पर छापा पड़ गया। यह कैसी सरकार है?"

बता दें कि आयकर विभाग ने 28 मार्च को राज्य की 24 जगहों पर छापा मारा था। इन छापों में कुल 1.66 करोड़ नकदी जब्त हुई थी।

राजनीति की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

गुजरात दंगे

क्या है गुजरात दंगों की पृष्ठभूमि?

27 फरवरी, 2002 को गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस के एक डिब्बे में आग लगने से 58 कारसेवक जलकर मर गए थे।

इसके बाद पूरे गुजरात में मुस्लिम विरोधी दंगे फैल गए थे, जिनका मुख्य केंद्र अहमदाबाद और उसके आसपास के इलाके रहे थे। ये दंगे 3 दिन तक चले।

उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

उन पर दंगों को रोकने के लिए प्रभावी कदम न उठाने और उन्हें बढ़ावा देने का आरोप लगता है।

मोदी के खिलाफ नहीं मिले सबूत, साबित नहीं हुआ कोई भी आरोप

हालांकि, मामले में गठित विशेष जांच दल (SIT) मोदी के खिलाफ कोई सबूत इकट्ठा कर पाने में नाकाम रही थी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी SIT की जांच को सही पाते हुए मोदी के खिलाफ केस चलाने की मांगों को खारिज कर दिया था।

अगली खबर