हाइपरटेंशन के लक्षण और उससे बचाव

लाइफस्टाइल

17 May 2019

विश्व हाइपरटेंशन दिवस: धीरे-धीरे मौत की तरफ़ ले जाती है बीमारी, लक्षण जानकार करें बचाव

बदलती लाइफस्टाइल की वजह से लोग तनाव का शिकार हो रहे हैं और कई लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत होने लगी है। इसे हाई हाइपरटेंशन कहा जाता है।

पहले यह बीमारी एक उम्र के बाद हुआ करती थी, लेकिन आजकल युवाओं में भी यह बीमारी देखी जा सकती है।

अगर समय से पहले हाइपरटेंशन को नियंत्रित न किया जाए, तो हार्ट अटैक और ब्रेन अटैक का ख़तरा रहता है।

आइए जानें इसके लक्षण और इससे बचाव के उपाय।

क्या है हाइपरटेंशन?

हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर वह स्थिति है, जिसमें धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ जाता है। यह कई कारणों जैसे तनाव, फास्ट फ़ूड, एक्सरसाइज की कमी और धूम्रपान से हो सकती है। हाइपरटेंशन का असर दिमाग, किडनी, दिल और आँखों पर होता है।

कारण

क्या हैं हाइपरटेंशन के कारण?

क्या हैं हाइपरटेंशन के कारण?

हाइपरटेंशन के कोई एक नहीं बल्कि कई कारण हैं, जिसमें से कुछ शारीरिक और कुछ मानसिक कारण हैं।

इनमें बहुत ज़्यादा तनाव में रहना, धूम्रपान या नशे की लत, नींद न आने की समस्या, एक्सरसाइज न करना, ख़ून में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना, मोटापा और आनुवंशिक लक्षण हैं।

इसके अलावा बहुत ज़्यादा माँसाहारी भोजन करना, ज़्यादा मात्रा में शराब पीना, ज़्यादा काम करना और विटामिन D की कमी भी हाइपरटेंशन की वजह है।

लाइफस्टाइल की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

लक्षण

क्या हैं हाइपरटेंशन के लक्षण?

हाइपरटेंशन एक साइलेंट किलर बीमारी है। जागरूकता की कमी से यह और बढ़ती जाती है।

एक सर्वे के अनुसार, लगभग 33% भारतीय लोगों को हाइपरटेंशन के लक्षणों का पता नहीं होता है। इस वजह से यह बीमारी और बढ़ जाती है।

इसके लक्षणों में अचानक तेज़ सिरदर्द, थकान और असमंजस की स्थिति, चक्कर और उल्टी आना, धुँधला दिखाई देना, छाती में तेज़ दर्द, साँस लेने में तकलीफ़ होना, पेशाब के साथ ख़ून आना और अनियमित दिल की धड़कन है।

नियमित करवाएँ ब्लड प्रेशर की जाँच

40 की उम्र के बाद हर व्यक्ति को छह महीने में एक बार नियमित ब्लड प्रेशर की जाँच करवाते रहना चाहिए। हालाँकि अब युवाओं को भी इसकी जाँच करवानी चाहिए। हाइपरटेंशन से बचने के लिए कुछ घरेलू उपाय अपनाएँ।

उपाय

लौकी का जूस, प्याज़ का रस और मेथी के दाने

लौकी का जूस, प्याज़ का रस और मेथी के दाने

सुबह-सुबह ख़ाली पेट लौकी का जूस पीने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती है। साथ ही इससे डायबिटीज और दिल की बीमारियाँ दूर रहती हैं।

इसके अलावा प्याज़ के रस में एक चम्मच शुद्ध देशी घी मिलाकर खाने से हाइपरटेंशन की बीमारी में आराम मिलता है।

सोते समय मेथी के दानों को गर्म पानी में भिगो दें। सुबह उठकर ख़ाली पेट इसका पानी पीएँ और दाने को चबाएँ, इससे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या दूर होगी।

काली मिर्च का सेवन और तांबे के बर्तन में पानी पीएँ

जिन लोगों का ब्लड प्रेशर ज़्यादा हो, उन्हें आधे गिलास गर्म पानी में काली मिर्च पाउडर डालकर हर दो घंटे में पीना चाहिए। इसके अलावा रोज़ाना तांबे के बर्तन में पानी रखकर पीएँ। इससे भी हाई ब्लड प्रेशर में राहत मिलती है।

बचाव

ऐसे करें हाइपरटेंशन से बचाव

हाइपरटेंशन से बचने के लिए धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें, ज़्यादा से ज़्यादा हरी सब्ज़ियों और फलों का सेवन करें।

खाने में ज़्यादा से ज़्यादा अदरक एवं लहसुन और कम मात्रा में नमक का उपयोग करें।

प्रतिदिन लगभग एक घंटे तक एक्सरसाइज करें और अपना वजन घटाएँ। सुबह उठकर वॉक या रनिंग की आदत डालें।

गुस्सा, परेशानी और नकारात्मक भाव से दूर रहें। इसके अलावा नियमित योगासन करें।

खबर शेयर करें

स्वास्थ्य

बीमारी

स्वास्थ्य देखभाल

स्वास्थ्य बाइट्स

प्राकृतिक और घरेलू उपचार

खबर शेयर करें

अगली खबर