दवाई की पर्ची में लिखा कंडोम, डॉक्टर बर्खास्त

देश

03 Sep 2019

महिला को थी पेट दर्द की शिकायत, डॉक्टर ने दवाई की पर्ची में लिखा कंडोम, बर्खास्त

झारखंड में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है।

यहां एक डॉक्टर ने एक महिला को पेट दर्द की शिकायत से निपटने के लिए कंडोम के उपयोग का सुझाव दे दिया।

55 वर्ष की ये महिला उसके पास पेट दर्द की शिकायत लेकर आई थी, जिसकी दवाई की पर्ची में डॉक्टर ने कंडोम लिख दिया।

डॉक्टर को बर्खास्त कर दिया गया है।

मामला झारखंड की विधानसभा में भी उठा था और ये खूब चर्चा में रहा था।

मामला

जुलाई का है मामला

घटना 23 जुलाई की है।

झारखंड के घाटशिला सब-डिविजनल अस्पताल (GSDH) के डॉक्टर अशरफ बद्र के पास एक महिला पेट दर्द की शिकायत लेकर आई।

महिला ने डॉ अशरफ से गैस की वजह से पेट दर्द होने की बात कही।

इसके बाद डॉ अशरफ ने उसे एक दवाई की पर्ची लिखकर दी।

महिला जब दवाई लेने मेडिकल पर पहुंची तो उसे पता चला कि उसकी पर्ची में कंडोम लिखा हुआ है।

अस्पताल में ही कर्मचारी है महिला

इसके बाद महिला ने अस्पताल प्रबंधन से डॉ अशरफ की शिकायत की। बता दें कि महिला भी इसी अस्पताल में कर्मचारी है। घटना सामने आने के बाद अस्पताल के अन्य कर्मियों ने उसका साथ देते हुए डॉक्टर को नौकरी से निकालने की मांग की थी।

देश की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

कार्रवाई

सीधे राज्य के स्वास्थ्य विभाग से आया फैसला

मामला सामने आने के बाद पूर्वी सिंहभूम जिले के डिप्टी कमिश्नर रविशंकर शुक्ला ने जांच का आदेश देते हुए 26 जुलाई को तीन सदस्यीय पैनल समिति का गठन किया था।

समिति ने अपनी जांच में डॉ अशरफ पर लगे आरोपों को सही पाया और 2 अगस्त को अपनी रिपोर्ट सौपी।

रिपोर्ट आने के बाद डॉ अशरफ को बर्खास्त कर दिया गया। फैसला सीधे राज्य के स्वास्थ्य विभाग से आया है।

डॉ अशरफ एक साल के कॉन्ट्रैक्ट पर थे।

पहले के मामले

पहले भी बर्खास्त हो चुके हैं डॉ अशरफ

पूर्वी सिंहभूम के सिविल सर्जन डॉ महेश्वर प्रसाद ने बताया कि डॉ अशरफ को पहले भी गलत व्यवहार के लिए नौकरी से हटाया जा चुका है और गलतियां न दोहराने के लिखित आश्वासन के बाद ही उन्हें वापस लिया गया था।

डॉ अशरफ पर परीक्षण के लिए आए शवों का खुद परीक्षण करने की बजाय उन्हें जमशेदपुर में दूसरे अस्पताल भेजने और नर्स के साथ फ्लर्ट और छेड़खानी के आरोप लग चुके हैं।

विधानसभा में गूंज

विधानसभा में मामला उठाने वाले JMM विधायक ने कहा धन्यवाद

इस घटना की गूंज झारखंड विधानसभा में भी सुनने को मिली थी।

26 जुलाई को बहरागोडा से झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के विधायक कुणाल सारंगी ने पूरे मामले को जोरदार तरीके से विधानसभा में रखा था।

सारंगी ने डॉ अशरफ की बर्खास्तगी के फैसले का स्वागत करते हुए राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास, विधानसभा स्पीकर दिनेश ओरोन और विपक्ष ने नेता हेमंत सोरेन ( JMM के कार्यकारी अध्यक्ष) का धन्यवाद कहा।

प्रतिक्रिया

डॉ अशरफ बोले- मेरे खिलाफ साजिश, हाई कोर्ट में दूंगा फैसले को चुनौती

वहीं डॉ अशरफ ने बर्खास्ती के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है।

सोमवार को उन्होंने कहा, "ये जांच एक ढोंग है और पूरे फंसाने की साजिश के तहत ये किया जा रहा है। निजी नर्सिग अस्पतालों के मालिकों से रिश्वत लेकर ये किया गया है क्योंकि मैंने GSDH में ही गाइनेकोलॉजी और सामान्य सर्जरी करना शुरू कर दिया था। मैंने ऐसा कोई दवाई का पर्चा नहीं लिखा और मेरे नाम की रजिस्ट्रेशन स्लिप फर्जी है।"

खबर शेयर करें

झारखंड

स्वास्थ्य

झारखंड सरकार

विधानसभा

खबर शेयर करें

अगली खबर