उन्नाव पीड़िता की पिता की हत्या मामले में आरोप तय

देश

13 Aug 2019

उन्नाव केसः पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में कुलदीप सेंगर पर आरोप तय

दिल्ली की एक अदालत ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और तीन पुलिसकर्मियों समेत अन्य आरोपियों पर उन्नाव रेप पीड़िता के पिता की हत्या के आरोप तय किए हैं।

कोर्ट ने सेंगर और अन्य के खिलाफ पीड़िता के पिता से मारपीट और आर्म्स एक्ट के तहत फंसाने के आरोप भी तय किए हैं।

जानकारी के लिए बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर उन्नाव रेप केस से जुड़े सभी मामलों की सुनवाई दिल्ली में हो रही है।

गिरफ्तारी

हाई कोर्ट के आदेश के बाद हुई थी विधायक की गिरफ्तारी

पीड़िता ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि भाजपा से निष्कासित विधायक सेंगर और अन्य आरोपियों ने 2017 में उसके साथ रेप किया था।

पुलिस हिरासत में पीड़िता के पिता से मारपीट हुई, जिसके कुछ दिन बाद उन्होंने दम तोड़ दिया था।

उनकी मौत के बाद इस मामले की जांच CBI को सौंपी गई। इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के बाद विधायक को पिछले साल अप्रैल में गिरफ्तार किया गया था।

टक्कर

पीड़िता की कार की हुई थी ट्रक से टक्कर

पिछले महीने एक ट्रक ने पीड़िता की कार में टक्कर मारी थी। इस टक्कर में कार में सवार पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई, वहीं पीड़िता और उसके वकील की हालत गंभीर बनी हुई है।

इस टक्कर के बाद से पीड़िता और वकील मौत से लड़ाई लड़ रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए घायलों को इलाज के दिल्ली भेजने का आदेश दिया था।

इस टक्कर की जांच भी CBI को सौंपी गई थी।

देश की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

जांच

ट्रक ड्राइवर और क्लीनर का होगा नार्को टेस्ट

मामले की जांच में जुटी CBI मंगलवार को पीड़िता की कार को टक्कर मारने वाले ट्रक के ड्राइवर और क्लीनर का नार्को टेस्ट कराएगी।

CBI अधिकारी ड्राइवर आशीष कुमार पाल और क्लीनर मोहन श्रीवास को गुजरात के गांधीनगर स्थित फोरेंसिक साइंस लेबोरेट्री में नार्को, ब्रेन मैपिंग और फिंगर प्रिंटिंग टेस्ट के लिए लेकर जाएगी।

ये दोनों सात दिन की न्यायिक हिरासत में लखनऊ जेल में बंद थे। CBI को इन दोनों की तीन दिन की रिमांड मिली थी।

आरोप

रेप के आरोप भी तय

उन्नाव रेप केस में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप तय कर दिए हैं।

कोर्ट ने सेंगर पर IPC और POCSO कानून के तहत रेप और अन्य मामलों में आरोप तय किए गए हैं।

कोर्ट ने उसके सहयोगी शशि सिंह पर भी आरोप तय किए हैं।

इससे पहले मामले की जांच कर रही केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने कोर्ट को बताया था कि सेंगर पर लगे रेप के आरोप सही हैं।

सेंगर

दिल्ली की जेल में बंद है सेंगर

सेंगर को भी उत्तर प्रदेश की सीतापुर जेल से दिल्ली की रोहिणी जेल में शिफ्ट किया गया है।

CBI ने पाया था कि सीतापुर जेल में बंद रहने के दौरान लगभग 10,000 लोगों ने सेंगर से मुलाकात की थी।

इन लोगों में उसके परिजन और रिश्तेदार ही नहीं बल्कि साक्षी महाराज समेत भाजपा के कई नेता और विधायक शामिल हैं।

बड़ी बात ये है कि कई लोग बिना रजिस्टर में एंट्री किए सेंगर से मिलते थे।

खबर शेयर करें

दिल्ली

भारतीय सुप्रीम कोर्ट

उत्तर प्रदेश

उन्नाव

कुलदीप सिंह सेंगर

खबर शेयर करें

अगली खबर