नियंत्रण रेखा के पार जारी है आतंकी कैंप

देश

11 Jul 2019

नॉर्दन कमांड के कमांडर बोले- LoC पार जारी हैं आतंकी कैंप, पाकिस्तान ने नहीं की कार्रवाई

कुछ दिन पहले खबरें आई थीं कि पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के पार चलने वाले आतंकी कैंपों को बंद कर दिया है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है।

जम्मू-कश्मीर स्थित नॉर्दन कमांड के कमांडर रणबीर सिंह ने कहा है कि पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के पार चल रहे आतंकी ठिकानों को खत्म करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है।

उन्होंने कहा कि अब भी पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकी लॉन्च पैड और ट्रेनिंग कैंप जारी हैं।

आतंकवाद

जम्मू-कश्मीर के लिए बड़ा खतरा है आतंकवाद- लेफ्टिनेंट जनरल सिंह

जम्मू-कश्मीर के लिए बड़ा खतरा है आतंकवाद- लेफ्टिनेंट जनरल सिंह

उरी हमले के बाद की गई सर्जिकल स्ट्राइक के समय सैन्य ऑपरेशनों के महानिदेशक (DGMO) रहे सिंह ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा पोषित आतंकवाद जम्मू-कश्मीर में आज भी बड़ा खतरा बना हुआ है।

इंडिया टूडे से बात करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने कहा कि बार-बार चेतावनी दिए जाने के बाद भी पाकिस्तान आतंक और आतंकी ठिकानों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

उन्होंने कहा कि आतंकी भारत में घुसपैठ की कोशिशें करते हैं, लेकिन कामयाब नहीं हो पाते।

सीजफायर

एयरस्ट्राइक के बाद आई नियंत्रण रेखा पर सीजफायर उल्लंघन में कमी

बीते तीन महीनों से भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा (LoC) पर सीजफायर उल्लंघन की घटनाओं में तेजी से कमी आई है।

सरकारी सूत्रों ने बताया कि बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयरस्ट्राइक के बाद यह पाकिस्तानी सेना के व्यवहार में आए परिवर्तन को दिखाता है।

जून में सीजफायर उल्लंघन के 181 मामले सामने आये, जबकि मार्च में यह संख्या 267 थी।

बता दें, साल के शुरुआती महीनों में LoC पर जबरदस्त तनाव देखा गया था।

देश की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

FATF की कार्रवाई

पाकिस्तान को FATF की ब्लैकलिस्ट में जाने का खतरा

गहरे आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की ब्लैकलिस्ट में डाला जा सकता है।

बीते महीने FATF की बैठक में कहा गया कि पाकिस्तान आतंकवादियों के वित्तपोषण रोकने में लगातार दूसरी बार असफल हुआ है।

इससे पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट में आने की संभावनाएं बनी हुई है। FATF ने पिछले साल जून में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला था।

ब्लैकलिस्ट होने के बाद पाकिस्तान पर कई तरह के आर्थिक प्रतिबंध लग जाएंगे।

समयसीमा

पाकिस्तान के पास अक्तूबर तक का समय

19-21 जून तक फ्लोरिडा में हुई बैठक में इस बार पर चिंता जताई गई है कि पाकिस्तान इस साल जनवरी तक पूरे होने वाली योजना को पूरा करने असक्षम रहा था। साथ ही वह मई तक होने वाले एक्शन को भी पूरा नहीं कर पाया।

FATF ने अब पाकिस्तान को आतंक के खिलाफ कार्रवाई के लिए अक्तूबर तक का समय दिया है।

अगर पाकिस्तान इस दौरान पुख्ता कदम नहीं उठा पाता है तो FATF अगली कार्रवाई पर विचार करेगी।

कार्रवाई

पाकिस्तान ने कही आतंक के खिलाफ कार्रवाई की बात

पिछले कुछ समय से पड़ रहे अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान ने अपनी जमीन पर आतंक को रोकने और उनकी फंडिंग को लेकर कई कदम उठाए हैं।

पाकिस्तान ने लश्कर-ए-तैयब्बा, जैश-ए-मोहम्मद और उनकी सहयोगी संगठनों के कई बड़े आतंकियों को गिरफ्तार किया है ताकि उनकी गतिविधियों पर रोक लगाई जा सके।

बता दें, पुलवामा हमलेे के बाद भारत ने पाकिस्तान को कई सबूत दिए थे, जिनमें इस बात का जिक्र था कि इस हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ था।

भारत ने कार्रवाई को बताया दिखावा

पाकिस्तान द्वारा इन कार्रवाईयों पर प्रतिक्रिया देते हुए भारत ने कहा था कि आतंक के खिलाफ पाकिस्तान की कार्रवाई महज दिखावा है। भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि आतंक को लेकर पाकिस्तान के व्यवहार में कोई सुधार नहीं दिखता।

खबर शेयर करें

भारत

पाकिस्तान

आतंकवाद

आतंकी विरोधी ऑपरेशंस

आतंकी संगठन

सर्जिकल स्ट्राइक

खबर शेयर करें

अगली खबर