भाजपा की जीत की भविष्यवाणी करने वाला लेक्चरर सस्पेंड

देश

14 May 2019

मध्य प्रदेशः भाजपा की जीत की भविष्यवाणी करने वाले लेक्चरर को किया गया सस्पेंड

मध्य प्रदेश में एक लेक्चरर को भारतीय जनता पार्टी की जीत की भविष्यवाणी करना महंगा पड़ गया।

दरअसल, उज्जैन की विक्रम यूनिवर्सिटी के ज्योतिर्विज्ञान के विभागाध्यक्ष राजेश्वर शास्त्री मुसलगावंकर ने भाजपा की जीत की भविष्यवाणी की थी।

इसकी शिकायत मिलने के बाद राज्य के उच्च शिक्षा विभाग ने अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया।

राजेश्वर ने 29 अप्रैल को फेसबुक पर पोस्ट डाली थी, जिसमें उन्होंने लिखा था, 'भाजपा 300 के पास और NDA 300 के पार।'

शिकायत

चुनाव आयोग में की गई शिकायत

चुनाव आयोग में की गई शिकायत

राजेश्वर की इस पोस्ट को लेकर उज्जैन के युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता ने जिला निर्वाचन अधिकारी को लिखित शिकायत दी।

इसमें उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारी का किसी पार्टी के समर्थन में अनुमान जाहिर करना आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। इसलिए इस मामले में कार्रवाई होनी चाहिए।

निर्वाचन अधिकारी ने लेक्चरर को सस्पेंड करने की सिफारिश करते हुए जिलाधिकारी को पत्र लिखा।

इसके बाद 7 मई को राजेश्वर को सस्पेंड कर दिया गया।

बचाव

'किसी छात्र ने की थी फेसबुक पर पोस्ट'

राजेश्वर ने अपने सस्पेंशन पर कहा है कि उनके किसी छात्र ने उनके फेसबुक से यह पोस्ट की थी।

उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि ज्योतिष संभावनाओं का विज्ञान है और उन्होंने एक छात्र के सवाल का जवाब देते हुए यह भविष्यवाणी की थी।

उन्होंने कहा कि वह मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य पर ग्रहों की चाल का असर देख रहे थे।

राजेश्वर ने कहा कि उनके किसी छात्र ने उनकी जानकारी के बगैर उनके अकाउंट से यह पोस्ट की थी।

देश की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

'पोस्ट के लिए माफी मांगी'

राजेश्वर ने कहा कि जैसे ही उन्हें इस पोस्ट के बारे में पता चला उन्होंने तुरंत इसे डिलीट कर माफी मांगी थी। उन्होंने कहा कि इस मामले में उनका पक्ष सुने बिना कार्रवाई की गई है और वह इसे लेकर हाई कोर्ट में अपील करेंगे।

आचार संहिता

सरकारी कर्मचारियों के लिए आचार संहिता

आचार संहिता लागू होते ही केंद्र सरकार और सभी राज्यों सरकारों के अधीन काम करने वाले कर्मचारी आचार संहिता हटने तक निर्वाचन आयोग के तहत काम करते हैं।

इस दौरान सरकारी पैसे से ऐसी कोई कार्यक्रम या गतिविधि आयोजित नहीं की जा सकती, जिससे किसी राजनीतिक दल का प्रचार होता हो या उसे फायदा मिले।

साथ ही चुनाव प्रचार के लिए सरकारी मशीनरी जैसे गाड़ी, विमान या सरकारी इमारतों का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।

मतदान

आठ सीटों के लिए 19 मई को होगा मतदान

मध्य प्रदेश में कई चरणों में मतदान हुए हैं। छठे चरण तक राज्य की 21 सीटों पर वोट डाले जा चुके हैं।

बाकी बची आठ सीटों पर 19 मई को मतदान होगा।

कांग्रेस की सरकार वाले मध्य प्रदेश में इस बार सबसे रोचक मुकाबला भोपाल सीट पर है।

यहां से भारतीय जनता पार्टी ने मालेगांव ब्लास्ट में आरोपी साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाया है।

उनके सामने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह चुनावी मैदान में हैं।

खबर शेयर करें

मध्य प्रदेश

दिग्विजय सिंह

कांग्रेस

कमल नाथ

साध्वी प्रज्ञा

लोकसभा चुनाव 2019

लोकसभा चुनाव

खबर शेयर करें

अगली खबर