रिफंड मांग रही महिला को लगी हजारों की चपत

देश

01 Apr 2019

रिफंड अमाउंट पाने के लिए महिला ने किया फोन, लग गई 75 हजार की चपत

ऑनलाइन शॉपिंग को आमतौर पर सस्ता माना जाता है, लेकिन कई बार छोटी-सी चूक महंगी पड़ सकती है और इसका खामियाजा उठाना पड़ता है।

ऐसा ही एक मामला मुंबई में सामने आया है। यहां एक जालसाज ने महिला से कस्टमर केयर अधिकारी बनकर 75,000 रुपये ठग लिए।

महिला ने बोरीवली पुलिस में इसकी शिकायत दी है। पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है।

आइये, इस घटना के बारे में विस्तार से जानते हैं।

मामला

यह है पूरा मामला

पुलिस ने बताया कि पीड़ित महिला ने ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल से 1,100 रुपये की साड़ी ऑर्डर की थी।

महिला ने जब देखा कि साड़ी में कुछ खामी है तो उन्होंने इसे वापस कर दिया।

इसके बाद उन्होंने कंपनी के कस्टमर केयर को फोन कर रिफंड की मांग की। इस पर सामने से कस्टमर केयर अधिकारी बनकर बात कर रही जालसाज ने महिला से अकाउंट और IFSC नंबर मांगे।

25 मार्च के महिला के खाते से 75,000 रुपये कट गए।

ATM क्लोन कर निकाले गए पैसे

महिला ने जब बैंक से इसकी शिकायत की पता चला कि ये पैसे ATM से निकाले गए हैं। जालसाजों ने महिला के ATM का क्लोन तैयार कर इस धोखाधड़ी को अंजाम दिया था।

देश की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

पुराने मामले

लगातार सामने आते रहे हैं ऐसे मामले

पिछले कुछ समय में ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं।

ऐसा ही मामला दिल्ली में सामने आया। यहां एक महिला ने ई-वॉलेट में आ रही परेशानी के समाधान के लिए इंटरनेट पर कंपनी के कस्टमर केयर का नंबर सर्च किया।

जैसे ही महिला ने उस नंबर पर कॉल किया, उसके अकाउंट से एक लाख रुपये गायब हो गए।

दरअसल, महिला ने कस्टमर केयर का नंबर समझकर किसी हैकर्स के नंबर पर फोन कर लिया था।

ऐसा क्यों हुआ

दरअसल, गूगल पर यूजर जनरेटेड कॉन्टेट सर्विस होती है। इसके जरिए कोई भी यूजर गूगल सर्च और मैप्स पर दी गई जानकारी को एडिट कर सकता है। इसी वजह से हैकर्स कंपनी के कस्टमर केयर की जगह अपना नंबर डाल देते हैं।

सावधानी

इंटरनेट पर सावधानी बरतने की जरूरत

आजकल हैकर्स नए-नए तरीकों से इंटरनेट यूजर्स को अपना निशाना बना रहे हैं। इसलिए इंटरनेट पर यूजर्स द्वारा सावधानी बरतना बहुत जरूरी है।

अगर आपको किसी बैंक या किसी कंपनी के कस्टमर केयर नंबर लेने हैं तो इसके लिए बैंक या कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट से नंबर लें।

इसके अलावा कोई भी बैंक ग्राहकों से उनके डेबिट कार्ड के पिन नंबर नहीं मांगते। इसलिए किसी अनजान व्यक्ति से अपने पिन नंबर शेयर ना करें।

खबर शेयर करें

मुंबई

सुरक्षा

ऑनलाइन खरीदारी

साइबर अपराध

खबर शेयर करें

अगली खबर