युवराज सिंह के पिता योगराज से खास बातचीत

एक्सक्लूसिव

28 Aug 2019

#NewsBytesExclusive: खास बातचीत में बोले योगराज सिंह, 'भारतीय टीम को और भी युवराज देना चाहता हूं'

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह ने चंडीगढ़ के DAV कॉलेज के कोच के रूप में एक नई पारी की शुरुआत की है।

बीते रविवार को योगराज ने कोच के रूप में अपना प्रभार संभाला और अकादमी की सुविधाओं का जायजा लिया।

NewsBytes से विशेष बातचीत में योगराज ने अपनी नई पारी को लेकर खुलकर बातचीत की। साथ ही चंडीगढ़ में क्रिकेट संस्कृति के बारे में भी काफी कुछ बताया।

पढ़े पूरी बातचीत।

पहला दिन

अपनी प्रतिभा चंडीगढ़ को देना चाहते हैं योगराज

अपने पहले दिन के बारे में बात करते हुए योगराज ने कहा कि यह एक सामान्य प्रशिक्षण सत्र था। दरअसल, वह देखना चाहते थे कि लड़के कितना फिट हैं। क्योंकि वह चंडीगढ़ क्रिकेट को फिर से विकसित करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, "दरअसल, वे मुझे कोच के रूप में वापस चाहते थे, मुझे भी लगा कि मुझे अपनी सेवाएं चंडीगढ़ को देनी चाहिए, क्योंकि इसे BCCI से चार दशकों के बाद संबद्धता मिली है।"

फिटनेस

'छात्रों को फिट होने के लिए चाहिए छह महीने का समय'

DAV कॉलेज के छात्रों की फिटनेस के बारे में बात करते हुए योगराज ने कहा कि अभी वे सिर्फ 30 प्रतिशत ही फिट हैं।

हालांकि, उन्होंने कहा, "अगले छह महीने से लेकर एक साल तक वे काफी फिट हो जाएंगे। इसके बाद वे भारत के लिए संभावित प्रतिभा की खोज कर सकते हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "वह छात्रों को उसी तरीके से ट्रेन करने की सोच रहे हैं, जिस तरह से उन्होंने युवराज सिंह को ट्रेन किया था।"

एक्सक्लूसिव की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

मार्गदर्शन

सही मार्गदर्शन छात्रों को बेहतरीन क्रिकेटर बना सकता है- योगराज

पहले दिन के छात्रों के साथ इंटरेक्शन के बारे में बात करते हुए योगराज ने कहा कि वह उनसे काभी प्रभावित हुए थे।

उन्होंने कहा, "एक सही तरह का मार्गदर्शन छात्रों को बेहतर क्रिकेटर बनाने में मदद कर सकता है।"

योगराज ने आगे यह भी कहा, "मुझे लगता है कि उन्हें किसी ने नहीं बताया कि फिटनेस बहुत अहम फैक्टर है। मैंने उन्हें यही बताया और वह इसे लेकर काफी उत्साहित दिख रहे हैं।"

कुछ और युवराज बनाने हैं- योगराज

योगराज ने कहा, "अगर मैं लंबे समय तक जीने में सक्षम रहा, तो मैं भारतीय टीम और चंडीगढ़ क्रिकेट को कुछ और युवराज देना चाहूंगा। यदि मैं ऐसा करने में सक्षम हूं, तो मैं बहुत खुश और भगवान का आभारी रहूंगा।"

चंडीगढ़

अगले पांच सालों में चंडीगढ़ को भारतीय टीम की ताकत बनाना है- योगराज

NewsBytes से बातचीत में योगराज सिंह ने कहा कि सभी जानते हैं कि चंडीगढ़ में एक खिलाड़ी खुद को टीम के लिए तैयार करता है।

योगराज ने कहा, "प्रतिभा और अन्य पहलुओं को देखते हुए, चंडीगढ़ को अगले पांच वर्षों में भारतीय क्रिकेट की एक ताकत होना चाहिए।"

उन्होंने आगे कहा, "अगर सब कुछ बहुत अच्छा हो, साथ ही साथ निष्पक्ष और चौकोर हो, तो मुझे लगता है कि हम आने वाले पांच वर्षों में बहुत अच्छा कर सकते हैं।"

प्रशिक्षण सुविधा

चंडीगढ़ की बोहतरीन प्रशिक्षण सुविधाओं को लिए योगराज ने BCCI को दिया धन्यवाद

वर्तमान में चंडीगढ़ में ट्रेनिंग सुविधाओं के बारे में बात करते हुए योगराज ने सेक्टर-16 स्टेडियम और पंजाब यूनिवर्सिटी के अच्छे इंफ्रास्ट्रक्चर की काफी तारीफ की।

साथ ही उन्होंने चंडीगढ़ में अच्छी प्रशिक्षण सुविधाओं के लिए BCCI का भी धन्यवाद दिया।

उन्होंने कहा, "जिस हिसाब से पैसा आ रहा है, उसको देखते हुए और इस समय के इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ मुझे विश्वास है कि हम आने वाले एक साल में और अच्छा कर पाएंगे।"

युवराज का योगदान

'मैं चाहता हूं कि युवराज चंडीगढ़ क्रिकेट में योगदान दें'

युवराज सिंह के भविष्य को लेकर सवाल करने पर पिता योगराज सिंह ने कहा कि कुछ दिन पहले उनका चंडीगढ़ के कुछ युवा खिलाड़ी और कोच वीआरवी सिंह के साथ एक सेशन हुआ था।

उन्होंने आगे बताया, "युवराज के पास चंडीगढ़ की कुछ कोचिंग से ऑफर आ रहे हैं। मैं खुद भी चाहता हूं कि युवराज चंडीगढ़ क्रिकेट में कुछ योगदान दें, जिसने उन्हें इतना कुछ दिया है।"

प्रशंसा

योगराज ने की भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री के काम की तारीफ

भारतीय टीम के मुख्य कोच के रूप में रवि शास्त्री के दूसरे कार्यकाल के बारे में पूछे जाने पर योगराज ने कहा कि वह कपिल देव के नेतृत्व वाली CAC के फैसले से काफी प्रभावित थे।

साथ ही योगराज ने ICC 2019 विश्व कप में सेमीफाइनल में हार के बाद भी शास्त्री के शानदार प्रदर्शन का समर्थन किया।

उन्होंने कहा, "रवि शास्त्री भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत अच्छा कर रहे हैं और वह आगे भी इस पर खरा उतरेंगे।"

तकनीकी रूप से शानदार खिलाड़ी हैं विक्रम राठौर- योगराज

योगराज ने कहा, "विक्रम राठौर तकनीकी रूप से शानदार खिलाड़ी हैं। वह अपनी जॉब की अच्छी तरह से जानते हैं। मैंने हमेशा उन्हें एक अच्छे बल्लेबाज का दर्जा दिया है। मुझे यकीन है कि वह भारत के बल्लेबाजी कोच के रूप में बहुत अच्छा करेंगे।"

खबर शेयर करें

क्रिकेट

घरेलू क्रिकेट

क्रिकेट विश्लेषण

खबर शेयर करें

अगली खबर