अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

मनोरंजन
11 Feb 2019

दमदार है 'मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर' का ट्रेलर, बच्चे का मां की खातिर प्रधानमंत्री को खत

मां के लिए शौचालय बनवाने के लिए मासूम का खत

काफी समय से विवादों में चल रही फिल्म 'मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर' का ट्रेलर रिलीज़ हो गया है।

फिल्म की कहानी खुले में शौच और सैनिटेशन जैसे मुद्दों के इर्द-गिर्द घूमती है।

ढाई मिनट का यह ट्रेलर दर्शकों पर अपना असर छोड़ रहा है।

फिल्म का निर्देशन राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने किया है। आठ साल के बच्चे को देखकर फिल्म की कहानी निश्चित तौर पर दर्शकों के दिल को छू जाएगी।

प्रसंग

मां के लिए शौचालय बनवाने के लिए मासूम का खत

ट्रेलर

प्रधानमंत्री से मिलने दिल्ली पहुंच जाता है आठ साल का कन्हैया

ट्रेलर की शुरुआत में तीन बच्चों को दिल्ली के राजपथ पर दिखाया जाता है, जिनमें से एक आठ साल का लड़का कन्हैया होता है।

कन्हैया अपने दो दोस्तों के साथ प्रधानमंत्री से मिलने की उम्मीद लिए दिल्ली पहुंचता है।

ट्रेलर में अरिजीत सिंह की आवाज में टाइटल ट्रैक सुनाई देता है। आखिर कन्हैया प्रधानमंत्री से क्यों मिलना चाहता ट्रेलर में यह भी दिखाया जाता है।

बच्चे का स्ट्रगल और हौसला दोनों देखने लायक है।

कहानी

मासूम लिखता है प्रधानमंत्री को खत

ट्रेलर से कहानी समझ आती है कि कन्हैया अपनी मां के साथ मुंबई के स्लम में रहता है। उसकी जिंदगी में बदलाव तब आता है, जब खुले में शौच के लिए जाने पर उसकी मां के साथ दुष्कर्म हो जाता है।

इसके बाद बच्चा मां के लिए शौचालय बनवाने के लिए प्रधानमंत्री को खत लिखता है और पूछता है कि अगर आपकी मां के साथ ऐसा होता तो आपको कैसा लगता?

मनोरंजन की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

कैसे आया फिल्म बनाने का आइडिया?

आइडिया

कैसे आया फिल्म बनाने का आइडिया?

फिल्म बनाने का आइडिया राकेश को 'भाग मिल्खा भाग' की शूटिंग के दौरान मिला था।

वे शूटिंग खत्म करने के बाद सुबह फिल्म सिटी के पास बने एक स्लम से गुजर रहे थे। जहां करीब दर्जन भर महिलाएं खुले में शौच कर रहीं थीं, लेकिन उनकी गाड़ी आती देख वे तुरंत वहां से हट गईं।

राकेश ने बताया कि भारत में पचास प्रतिशत दुष्कर्म की घटनाएं उस समय होती हैं, जब महिलाएं खुले में शौच के लिए जाती हैं।

आरोप

क्या है फिल्म से जुड़ा विवाद

राइटर मनोज मेढ़ता ने फिल्म में क्रेडिट न देने का आरोप लगाया था। जिसके बाद ये मामला बॉम्बे हाईकोर्ट तक पहुंचा था।

मनोज का आरोप था कि फिल्म में उनका नाम बतौर स्क्रीन राइटर नहीं दिया जा रहा है, जबकि स्टोरी और स्क्रीनप्ले उनका है।

इससे पहले स्क्रीन राइटर्स एसोसिएशन की डिस्प्यूट सेटलमेंट कमेटी मनोज के हक में फैसला सुना चुकी है।

फिल्म की स्क्रीनिंग रोम फिल्म फेस्टिवल में कर दी गई है।

15 मार्च को रिलीज़ होगी फिल्म

इस फिल्म में मुख्य भूमिकाओं में नेशनल अवॉर्ड विनिंग ऐक्ट्रेस अंजलि पाटिल, मकरंद देशपांडे, रसिका अगाशे, सोनिया अलबिजूरी और नचिकेत पूर्णपात्रे दिखाई देंगे। फिल्म 15 मार्च, 2019 को थिएटर्स में रिलीज़ होगी।

अगली खबर