ये डॉक्टर चलाते हैं मेडिकल उम्मीदवारों के लिए मुफ्त कोचिंग

करियर

03 Jul 2019

यह डॉक्टर देते हैं मेडिकल उम्मीदवारों को मुफ्त कोचिंग, कई छात्रों ने पास की MBBS परीक्षा

जहां डॉक्टरों को हमारे देश में भगवान का दूसरा रुप माना जाता है। वहीं एक डॉक्टर समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों से संबंधित मेडिकल छात्रों को फ्री में कोचिंग प्रदान कर रहे हैं।

डॉ भारन सरन राजस्थान के बाड़मेर जिले में 'फिफ्टी विलेजर्स (Fifty Villagers)' के नाम से एक कोचिंग संस्थान चला रहे हैं। जिसमें वे फ्री में 11वीं और 12वीं कक्षा के 25-25 वंचित छात्रों को पढ़ाते हैं।

आइए जानें क्या है पूरी खबर।

शुरुआत

सात सालों से चल रही है संस्थान

ANI से बात करते हुए डॉ सरन ने कहा, "मैं पिछले सात वर्षों से 'फिफ्टी विलेजर्स' को चला रहा हूं। यह दूरदराज के गांवों में सरकारी स्कूलों के मेडिकल छात्रों के लिए एक फ्री कोचिंग संस्थान है।"

उन्होंने बताया कि संस्थान हर साल 50 छात्रों को प्रशिक्षित करती है, 11वीं और 12वीं के 25-25 छात्र इस संस्थान में पढ़ते हैं।

सरन ने बताया कि इस संस्थान का गठन 25 मई, 2012 को हुआ था।

सुविधाएं

किताबों के साथ-साथ देते हैं भोजन

HT में छपी एक खबर के अनुसार सरन ने कि इस संस्थान का गठन उन 25 छात्रों को पढ़ाने के लिए किया था, जो समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग से हैं। खासकर जिन्हें आर्थिक तंगी के कारण पढ़ाई छोड़नी पड़ती है।

साथ ही उन्होंने बताया कि वे फ्री किताबें प्रदान करने के साथ-साथ स्कूल की फीस का भुगतान भी करते हैं और छात्रों को भोजन भी प्रदान करते हैं।

करियर की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

MBBS

कई छात्रों ने पास की MBBS की परीक्षा

उन्होंने कहा कि पिछले सात वर्षों में 140 छात्रों ने यहां प्रवेश लिया। चयन अनुपात 100% है, क्योंकि प्रत्येक छात्र विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश ले लेता है।

उनकी संस्थान के 30 से अधिक छात्र MBBS पास कर चुके हैं। पांच AIIMS में, कुछ पशु चिकित्सा में और कुछ आयुर्वेद के क्षेत्र में गए हैं।

उन्होंने बताया कि यहाँ सेल्फ स्टडी होती है। कोचिंग सेंटर्स पर जाना महत्वपूर्ण नहीं है। छात्रों को सेल्फ स्टडी से निर्देशित किया जा सकता है।

बयान

संस्थान में पढ़ने वाले छात्रों ने कहा ये

संस्थान के एक छात्र ने कहा, "हम यहाँ बहुत अच्छी तरह से अध्ययन कर रहे हैं। मैंने 2016 में परीक्षा दी और फिर मैं यहां आया। मैं भविष्य में डॉक्टर बनना चाहती हूं। मेरे स्कूल के छात्रों में से एक का AIIMS में चयन हो गया। हम यहां 11 से 12 घंटे अध्ययन करते हैं।"

एक अन्य छात्र ने कहा कि उनका मुख्य उद्देश्य एक अच्छा आदमी बनना और डॉक्टर बनकर मानवता की सेवा करना है।

खबर शेयर करें

शिक्षा

छात्र

करियर बाइट्स

खबर शेयर करें

अगली खबर