अपने दोस्तों के साथ शेयर करें!

करियर
09 Feb 2019

अब स्कूल एडमिशन की होगी होम डिलवरी, घर बैठे ही होगा एडमिशन

घर बैठे ही दिल्ली के सरकारी स्कूलों में होगा दाखिला

दिल्ली सरकार जल्द ही एक नया प्रयोग करने जा रही है। ये प्रयोग सरकारी स्कूलों में एडमिशन को लेकर होगा।

दिल्ली सरकार होम डिलिवरी ऑफ सर्विसेस की तरह होम डिलिवरी ऑफ एडमिशन की योजना भी बना रही है।

जी हां, अब सरकारी स्कूलों में एडमिशन की होम डिलिवरी होने वाली है।

अगर ऐसा होगा, तो बच्चों के दाखिले को लेकर उनके पेरेंट्स की टेंशन काफी कम हो जाएगी।

आइए जानें कैसे होगी एडमिशन की होम डिलिवरी।

प्रसंग

घर बैठे ही दिल्ली के सरकारी स्कूलों में होगा दाखिला
घर बैठे ही कन्फर्म हो जाएगा एडमिशन

एडमिशन

घर बैठे ही कन्फर्म हो जाएगा एडमिशन

बता दें कि दिल्ली के डेप्युटी CM और एजुकेशन मिनिस्टर मनीष सिसोदिया ने एजुकेशन सेक्रटरी को होम डिलिवरी ऑफ एडमिशन योजना को लेकर निर्देश भी दे दिए हैं।

पायलट प्रॉजेक्ट के तौर पर लगभग 15-20 सरकारी स्कूलों में यह किया जाएगा।

एडमिशन को लेकर डॉक्युमेंट चेक से लेकर दूसरी अन्य औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए खुद स्कूल मैनेजमेंट कमिटी (SMC) के मेंबर्स बच्चों के घर जाएंगे।

पेरेंट्स के स्कूलों के चक्कर लगाए बिना ही एडमिशन कन्फर्म हो जाएगा।

निगरानी

एडमिशन की निगरानी के लिए तैयार की गई है ये योजना

सिसोदिया ने एजुकेशन सेक्रटरी को एक नोट लिखा है, जिसमें होम डिलिवरी ऑफ एडमिशन योजना का पूरा खाका बताया है।

सिसोदिया ने कहा है कि राइट टु एजुकेशन ऐक्ट के अनुसार बच्चों के एडमिशन से लेकर एडमिशन प्रक्रिया तक की निगरानी राज्य सरकारों को करनी होती है।

एडमिशन की निगरानी के लिए ही ये एक्शन प्लान तैयार किया गया है। साथ ही इस योजना में स्कूल की SMC को शामिल किया जाएगा।

करियर की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

सिस्टम

लॉटरी सिस्टम से तैयार होगी लिस्ट

इस योजना में जिन स्कूलों को शामिल किया गया है, उनमें बच्चों के आवेदन फॉर्म के आधार पर लॉटरी सिस्टम से बच्चों की लिस्ट तैयार की जाएगी।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फॉर्म में जो पता होगा, उस पर SMC मेंबर्स की टीम जाएगी। दो मेंबर्स की एक टीम होगी।

मेंबर्स पेरेंट्स से मिलेंगे और जरूरी डॉक्युमेंट की फोटोकॉपी भी लेंगे।

जानकारी कन्फर्म होने के बाद बच्चे के एडमिशन की स्लिप और किट पेरेंट्स को सौंप दी जाएगी।

दिल्ली का निवासी होना है जरूरी

शिक्षा विभाग द्वारा तैयार प्रपोजल के अनुसार एडमिशन के क्राइटेरिया में दिल्ली का निवासी होना भी एक शर्त है। डेप्युटी CM ने इससे सहमत होकर एजुकेशन सेक्रटरी को लिखा कि पड़ोसी राज्यों के ढुलमुल रवैये के कारण दिल्ली के पास वाले भी दाखिला चाहते हैं।

अगली खबर