SBI ने फिर कम की ब्याज दरें

बिज़नेस

09 Sep 2019

SBI ने दी ग्राहकों को राहत, मंगलवार से कम होगी होम लोन की EMI

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने मार्जिनल कोस्ट-बेस्ड लेंडिंग रेट (MCLR) दरों में 10 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है।

इससे होम लोन की ब्याज दरें कम होंगी। नई दरें 10 सितंबर से लागू हो जाएंगी। इस वित्तीय वर्ष SBI ने पांचवी बार इन दरों में कटौती की है।

बैंक ने फिक्स डिपॉजिट पर भी कटौती की है। रिटेल डिपॉजिट पर दरों में 0.25 फीसदी की कटौती और टर्म डिपॉजिट रेट पर 0.10 से 0.20 फीसदी की कमी की गई है।

बदलाव

8.15 पहुंची MCLR दरें

कटौती के बाद MCLR 8.25 फीसदी से घट कर 8.15 फीसदी पर पहुंच जाएगी।

SBI एक मई से लेकर अब तक कर्ज की दरों में कुल 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर चुका है।

इससे पहले 10 जून को भी दरें कम की गई थीं। एक मई से पहले ये दरें 8.55 फीसदी पर थीं, जो 10 सितंबर को घटकर 8.15 हो जाएंगी।

दरों में यह कटौती उस समय की गई है जब देश आर्थिक मंदी से जूझ रहा है।

सर्विस चार्ज

एक अक्तूबर से बदलेंगे SBI के सर्विस चार्ज से जुड़े कई नियम

SBI अगले महीने से अपने सर्विस चार्ज में बदलाव करेगा। इसमें बैंक में पैसे जमा करने, पैसे निकालने, चेक के इस्तेमाल और ATM ट्रांजेक्शन पर लगने वाले सर्विस चार्ज की फीस बदल जाएगी।

SBI ने इसे लेकर सर्कुलर जारी किया है। इसके मुताबिक, अगर कोई ग्राहक एक अक्तूबर के बाद तीन बार से ज्यादा पैसे जमा करता है तो उसे हर ट्रांजेक्शन पर 50 रुपये देने होंगे। यानी फ्री ट्रांजेक्शन की सीमा तीन बार कर दी गई है।

बिज़नेस की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

चेक के सर्विस चार्ज में होगा बदलाव

इसके अलावा बैंक चेक रिटर्न के नियम भी बदलने जा रहे हैं। एक अक्टूबर के बाद कोई भी चेक किसी तकनीकी के कारण (बाउंस के अलावा) लौटता है तो चेक जारी करने वाले को 168 रुपये का चार्ज देना होगा।

खबर शेयर करें

बिज़नेस

खबर शेयर करें

अगली खबर