ऑनलाइन माध्यमों से सोना खरीदने वालों की संख्या में इजाफा

बिज़नेस

18 Dec 2018

बदला सोने की खरीदारी का तरीका, एक-एक रुपये में सोना खरीद रहे भारतीय

भारत को सोने की मांग वाले सबसे बड़े बाजारों में गिना जाता है। यहां लोगों में सोने की खरीद को लेकर अलग ही आकर्षण है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब भारत में लोग एक रुपये का भी सोना खरीद रहे हैं। सुनने में यह भले ही अजीब लग रहा है, लेकिन यह सच्चाई है।

कई रिटेलर्स ऑनलाइन सोना खरीदने का ऑफर दे रहे हैं। इन ऑफर्स के तहत लोग एक-एक रुपये का सोना खरीद रहे हैं।

मांग

कम हो रही है सोने की मांग

पिछले कुछ समय से सरकार द्वारा उठाए गए कदम, महंगी कीमत और युवाओं के घटते आकर्षण के कारण देश में सोने की मांग घटी है।

साल 2010 के मुकाबले पिछले साल तक देश में सोने की मांग में 23 फीसदी कमी आ चुकी थी। यह गिरावट लगातार जारी है।

इन सब के बीच युवा ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए ज्वैलर्स नए-नए तरीके अपना रहे हैं। इनमें ऑनलाइन माध्यमों से सोना बेचना भी शामिल है।

तरीका

ऑनलाइन माध्यमों से सोना खरीद रहे लोग

सोना बेचने वाले एक डिजिटल प्लेटफॉर्म सेफगोल्ड के मैनेजिंग डायरेक्टर गौरव माथुर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि कई लोग एक रुपये का सोना खरीद रहे हैं।

उन्होंने कहा कि यह प्रोडक्ट को जांचने का एक कम जोखिम-भरा तरीका है।

सेफगोल्ड, फोन पे के साथ पार्टनरशिप में एक रुपये की कीमत से सोना बेचता है।

सेफगोल्ड की शुरुआत पिछले साल हुई थी। तब से लेकर अभी तक लगभग 30 लाख लोगों ने इस प्लेटफॉर्म से सोना खरीदा है।

बिज़नेस की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

वजह

तेज ट्रांजेक्शन और आकर्षक ऑफर

माथुर ने बताया कि कंपनी का लक्ष्य अगले साल तक 1.5 करोड़ लोगों तक पहुंचना है।

उन्होंने बताया कि ग्राहकों को सोने की डिलीवरी कम से कम एक ग्राम की कीमत चुकाने के बाद मिलती है।

उन्होंने कहा कि परंपरागत बाजार के मुकाबले कम कीमत में सोने की खरीदारी का विकल्प और तेज ट्रांजेक्शन आदि ऐसी चीजें हैं जो युवाओं को इस ओर आकर्षित करती है।

उन्होंने दावा किया कि लगभग 40 सेकंड में एक ट्रांजेक्शन की जा सकती है।

बाजार

बाजार में नए कंपनियों की एंट्री

भारत में सोने की खपत का अधिकतर हिस्सा विदेशों से निर्यात किया जाता है।

व्यापार घाटे को कम करने और कालेधन को खत्म करने के लिए उठाए गए सरकारी कदम की वजह से सोने की मांग पर असर पड़ा है।

अभी तक इस बाजार पर परंपरागत खुदरा स्टोर और टाइटन जैसी रिटेल चैन का कब्जा है।

सेफगोल्ड के प्लेटफॉर्म ऑगमोन्ट के अलावा पेटीएम, बार्कशायर हाथवे जैसी प्लेटफॉर्म भी इस बाजार में अपनी पकड़ बनाने की कोशिश में है।

संभावनाएं

इंटरनेट पर आने के इंतजार में करोड़ों लोग

आने वाले समय में भारत में इंटरनेट यूजर्स की संख्या में भारी इजाफा होगा।

माना जा रहा है कि भविष्य में लगभग 50 करोड़ और यूजर्स इंटरनेट पर आएंगे।

अगस्त में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, अभी तक भारत के 39 करोड़ लोग ही इंटरनेट पर पहुंच पाए हैं। भारत की जनसंख्या के हिसाब से यह संख्या कम है। इसलिए भविष्य में इस क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं।

इंटरनेट यूजर्स बढ़ने से इंटरनेट के द्वारा वस्तुओं की खरीदारी भी बढ़ेगी।

खबर शेयर करें

बिज़नेस

सोना

सोने का लेनदेन

इंटरनेट

खबर शेयर करें

अगली खबर