क्रेडिट कार्ड खोने के बाद करें ये काम

बिज़नेस

22 May 2019

अगर आपका क्रेडिट कार्ड खो गया है तो परेशान न हों, यहाँ जानें आगे की प्रक्रिया

कई तरह की सुविधाएँ देने की वजह से आज के समय में क्रेडिट कार्ड व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले कैशलेश भुगतान विधियों में से एक है।

आजकल ज़्यादातर लोग क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं। ये वित्तीय जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

हालाँकि, क्रेडिट कार्ड का खोना या चोरी होना आम बात है, जो इन दिनों बढ़ रहा है।

ऐसे में अगर आपका क्रेडिट कार्ड खो/चोरी हो जाता है, तो जानें आपको क्या करना चाहिए।

#1

बैंक को कॉल करके ब्लॉक करवाएँ क्रेडिट कार्ड

एक बार जब कार्डधारक को पता चलता है कि उनका क्रेडिट कार्ड खो गया है या चोरी हो गया है, तो सबसे पहले संबंधित बैंक के कस्टमर केयर नंबर पर कॉल करके उन्हें इसके बारे में सूचित करना चाहिए।

कस्टमर केयर को कार्ड के नुकसान/चोरी होने की सूचना देने के बाद कार्ड को जल्द से जल्द ब्लॉक करने के लिए कहें।

एक बार ऐसा हो जाने के बाद ग्राहक उस कार्ड पर किसी भी लेनदेन के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

बैंक की है धोखाधड़ी के ख़िलाफ़ ग्राहकों की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी

जब कार्डधारक कार्ड के नुकसान/चोरी होने की रिपोर्ट करता है, तो बैंक RBI के फ़्रॉड सर्कुलर के अनुसार, धोखाधड़ी के ख़िलाफ़ ग्राहक की सुरक्षा के लिए ज़िम्मेदार होता है। वह सुनिश्चित करेगा कि ग्राहकों को कार्ड का दुरुपयोग करने पर भुगतान न करना पड़े।

बिज़नेस की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

#3

अपने स्थानीय बैंक शाखा के क्रेडिट कार्ड विभाग में जाएँ

अपने स्थानीय बैंक शाखा के क्रेडिट कार्ड विभाग में जाएँ

क्रेडिट कार्ड खोने के बाद कार्डधारक अपने स्थानीय बैंक शाखा के क्रेडिट कार्ड विभाग में जाएँ और क्रेडिट कार्ड के नुकसान/चोरी के बारे में बताते हुए उन्हें लिखित रूप से सूचित करें।

ग्राहकों को यह भी बताना चाहिए कि उन्होंने पहले ही कस्टमर केयर को इसकी जानकारी दे दी है।

लगभग सभी क्रेडिट कार्ड जारीकर्ताओं की रिपोर्टिंग के समय से खोए/चोरी हुए क्रेडिट कार्ड पर धोखाधड़ी वाले लेनदेन को कवर करके अपने ग्राहकों को बचाने के लिए शून्य-देयता नीतियाँ हैं।

FIR दर्ज करवाएँ और बैंक में एक कॉपी जमा करें

क्रेडिट कार्ड खोने के बाद अन्य उपाय के तौर पर पुलिस स्टेशन में FIR भी दर्ज करवा सकते हैं। इसके बाद FIR की एक कॉपी बैंक में जमा करें। यह उस समय काम आएगा, जब रिपोर्ट किए गए क्रेडिट कार्ड से अनधिकृत लेनदेन किया जाएगा।

#5

ग्राहकों को आगे क्या करना चाहिए?

एक बार सूचना मिलने के बाद बैंक इस मामले को देखता है और क्रेडिट कार्ड को बदलने के लिए क़दम उठाता है।

ग्राहकों को कार्ड के नुकसान/चोरी को रोकने के लिए क़दम उठाने चाहिए और कार्ड सुरक्षा योजनाओं का विकल्प चुनना चाहिए।

ग्राहकों को अपने लेनदेन की नियमित रूप से समीक्षा करनी चाहिए और किसी भी असामान्य गतिविधि की रिपोर्ट करनी चाहिए।

इसके अलावा क्रेडिट कार्ड खाता संख्या और पिन जैसी संवेदनशील जानकारी को हमेशा गुप्त रखें।

खबर शेयर करें

भारत

बैंक

बिज़नेस

क्रेडिट कार्ड

खबर शेयर करें

अगली खबर