फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर भाइयों के बीच विवाद जारी

बिज़नेस

18 Feb 2019

फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर मालविंदर ने छोटे भाई पर लगाया हत्या की धमकी देने का आरोप

फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रमोटर मालविंदर सिंह ने अपने भाई शिविंदर सिंह, राधा स्वामी सत्संग के प्रमुख गुरिंदर सिंह ढिल्लों और अन्य के खिलाफ शिकायत दी है।

मालविंदर ने इन पर वित्तीय धोखाधड़ी और जान से मारने की धमकी देने के आरोप लगाए हैं।

शिकायत में गुरकीरत सिंह ढिल्लों, गुरप्रीत सिंह ढिल्लों, शबनम ढिल्लों आदि के नाम शामिल हैं।

मालविंदर ने शिकायत में गुरिंदर पर अपने वकील के जरिए उन्हें जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है।

दिल्ली की आर्थिक अपराध शाखा में शिकायत

अपनी शिकायत में मालविंदर ने कहा कि यदि वे गुरिंदर सिंह ढिल्लों की बातें मानने पर सहमत नहीं होते हैं तो उन्हें राधास्वामी सत्संग के लोगों द्वारा समाप्त कर दिया जाएगा। यह धमकी गुरिंदर ने अपने वकील के माध्यम से दी है।

आरोप

शिकायत में लगाए गए हैं आरोप

अपनी शिकायत में मालविंदर ने आरोप लगाया है कि शिविंदर मोहन सिंह और सुनील गोधवानी ने अन्य आरोपियों के साथ मिलकर साजिश के तहत दो अन्य कंपनियों 'रेलिगेयर एंटरप्राइजिज लिमिटेड और रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड' में गंभीर वित्तीय धोखाधड़ी को अंजाम दिया था, जिस वजह से काफी वित्तीय नुकसान हुआ।

उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपियों ने उन्हें वित्तीय नुकसान करने के लिए कंपनी की गलत आर्थिक स्थिति दिखाई।

बिज़नेस की खबरें पसंद हैं?

नवीनतम खबरों से अपडेटेड रहें।

नोटिफाई करें

वजह

पिछले साल आई थी दोनों भाइयों में दूरियां

इस बारे में पूछे जाने पर शिविंदर ने मामले पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

बता दें, फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रमोटर सिंह भाइयों के रिश्ते पिछले कुछ समय से अच्छे नहीं है।

दोनों भाइयों में कंपनी के मुनाफे के बंटवारे को लेकर दूरियां आई थी। शिविंदर और मलविंदर पर आरोप लगा कि उन्होंने कंपनी बोर्ड के अप्रूवल के बिना 500 करोड़ रुपए निकाल लिए।

पिछले साल फरवरी में दोनों भाई फोर्टिस से अलग हो गए थे।

शिकायत

दोनों भाइयों ने लगाए थे मारपीट के आरोप

मालविंदर ने दिसंबर, 2018 में शिविंदर पर मारपीट करने का आरोप लगाया था। शिविंदर ने उन्हें धमकी दी और चोट पहुंचाई।

शिविंदर ने इन आरोपों को झूठा बताते हुए कहा कि मालविंदर ने उन पर हमला किया।

इसे लेकर उन्होंने पुलिस में शिकायत की थी, जिसे बाद में अपनी मां के कहने पर उन्होंने वापस ले लिया था।

बता दें, दोनों भाइयों ने 1996 में फोर्टिस की शुरुआत की थी। इस समय कई देशों में कंपनी का नेटवर्क है।

खबर शेयर करें

जान से मारने की धमकी

फोर्टिस अस्पताल

खबर शेयर करें

अगली खबर